Clicks18
hi.news

कार्डिनल मुलर [फ्रांसिस] अधर्म का खुलासा करता है

कार्डिनल गेरहार्ड लुडविग मुलर ने सितंबर में रोम में एक पादरी नियुक्ति में 15 सितम्बर को एक धर्मोपदेश में कहा [कथित] दुर्व्यवहार संकट की जड़ "पादरीवाद नहीं है, वह कुछ और हो सकता है" लेकिन यह "सत्य से दूर हो जाना" और "नैतिक दुराचार" है।

मुलर ने कहा कि एक "नये पोस्तोरल" को बनाना संभव नहीं है और साथ ही चर्च के सिद्धांत को छूएँ नहीं। यह "सुधार नहीं है, बल्कि एक पाखंड" है।

उनके अनुसार क्राइस्ट दी गुड शेफर्ड के विपरीत क्राइस्ट दी टीचर ऑफ़ डिवाइन ट्रुथ को रखना पाखंड है।

मुलर के शब्दों ने फ्रांसिस का विरोधा किया, जिन्होंने दावा किया कि "पादरीवाद" दुर्व्यवहार संकट की जड़ है, जिसका अर्थ यह है कि "पादरीवाद" केवल समलैंगिकों और पीडोफाइल को प्रभावित करता है।

चित्र: Gerhard Ludwig Müller, © Elke Wetzig, wikicommons CC BY-SA, #newsYjskdlirzo